Scroll To Top

Dard

Dard Shop Online Dard at Shopclues with a price guarantee and fast delivery time in India Product Id : 84137645

2 offers Get Upto Rs 500 SuperCash* on Mobikwik. T&C View offers

Product Discontinued
  • Easy Returns and Replacement

    You can place a return request within 10 days of order delivery.

    In case of damaged/missing product or empty parcel, the return request should be filed within 2 days of delivery.

    Know More
  • Payment Options: (Credit Card , Debit Card , Net Banking )
Sold by :

Onlinegatha

Lucknow , Uttar Pradesh

Visit Seller Store
Product Details:

Dard

हर तरफ है बस निराशा, और अँधेरा दिल में है । रौशनी तो हर जगह है, बस सवेरा बिल में है| यह पुस्तक दर्द आप लोगों के समक्ष प्रेषित कर रहा हूँ। वैसे तो यह देखने वाले की नजर पर निर्भर करता है कि वह किस पहलू को देखता है। जो जैसा सोचता है उसके ख्याल और विचार भी उसी दिशा में जाने लगते हैं। एक स्वस्थ सोच ही स्वस्थ जीवन प्रवाह दे सकती है। चलता रहा जमीं पर, क्यों अब मैं उड़ रहा हूँ | राहों में सीधे चलकर, क्यों अब मैं मुड़ रहा हूँ । तराशा था खुद में हीरा, क्यों पत्थरों से जुड़ रहा हूँ| फितरत नहीं है मेरी, फिर क्यों मैं कुढ़ रहा हूँ| इंसान के वश में सिवाय सोचने के और कुछ नहीं है। मेरा मानना है कि कम से कम जो हाथ में है उसे सही रखना चाहिए, अगर बस सोच हमारे हाथ में है तो हमें कम से कम अपनी सोच को सही रखना चाहिए। वाकि ईश्वर को जो करना है वह तो होकर ही रहेगा। मगर हमारी सोच कहीं न कहीं हमारा बचाव तो करती ही है। याद रहे किसी भी चीज से कोई फर्क नहीं पड़ता सिवाय सोच के। और यूँ कहें कि गहराई से देखा जाये तो सिर्फ सोच का ही फर्क होता है। आज हमारे समाज में `बहुत विसंगतियां हैं जिनका असर आज हम सभी झेल रहे हैं और अपना अमूल्य समय इन विसंगतियों की चर्चाओं में शामिल हो कर बर्बाद कर रहे हैं। सिर्फ चर्चा और कुछ नहीं।

Rating & Reviews

0
5
0
4
0
3
0
2
0
1
0

0 Ratings, 0 Reviews

Have you used this product?
Rate it now.

WRITE A REVIEW
Please Note: Seller assumes all responsibility for the products listed and sold . If you want to report an intellectual property right violation of this product, please click here.
Some text some message..