Scroll To Top
Pilgrims Publishing

Purvmadhyakaalin Gujrat Samaj aur Sankriti

Purvmadhyakaalin Gujrat  Samaj aur Sankriti Get best prices of Purvmadhyakaalin Gujrat Samaj aur Sankriti on Shopclues.com Pilgrims Publishing Product Id : 94409773
  • Binding : Paper Back
  • Language : Hindi

2 offers Mobikwik: Get 10% SuperCash* T&C View offers

Product Discontinued
  • Easy Returns and Replacement

    You can place a return request within 10 days of order delivery.

    In case of damaged/missing product or empty parcel, the return request should be filed within 2 days of delivery.

    Know More
  • Payment Options: (Credit Card , Debit Card , Net Banking , COD)
Sold by :

Pilgrims Publishing, Pilgrims Book House

varanasi , Uttar Pradesh

4.5
Visit Seller Store
Product Details:

Purvmadhyakaalin Gujrat Samaj aur Sankriti

Key Feature

Brand :   Pilgrims Publishing
Model ID :   Samajik Parivartan
Part Number :   Sanskritik Parivartan

Books Specification

Binding :   Paper Back
Language :   Hindi
Edition :   2

Book detail:  'पूर्वमध्यकालीन गुजरात : समाज और संस्कृति ' अपने वर्णननीय विषय का अपूर्व ग्रंथ है। अपूर्व इस अर्थ में की पूर्वमध्यकालीन गुजराती समाज पर इतना पूर्ण, इतना प्रमाणिक और इतना विस्तारपूर्ण ग्रंथ इसके पूर्व प्रकाशित nahi हुआ है। गुजरात सदा से समृद्ध और सांस्कृतिक-संपन्न प्रदेश रहा है, अतः उसे विषय बनकर संसारभर के हजारों लेखकों ने जो ग्रंथ रचे हैं उन सबमें संग्रहीत जानकारियाँ देने के साथ-साथ यह पुस्तक अपने विषय से संबंधित पुराने से पुराने और नए से नए स्त्रोतों से पाठक को परिचित कराती है इसमें विषय से जुड़े विवादस्पद संदर्भो का सुबोध स्पष्टीकरण उपयुक्त अभिलेखों तथा शिलालेखों की युक्तिसंगत मीमांसा से किया गया है  

 

 

 

 

 

Authors detail:   पुस्तक के लेखक डॉ. राजेश कुमार धर दुबे असाधारण प्रतिभा वाले विद्वान हैं विक्रम संवत २०२७ की चैत्र दशमी को तिलौरा ग्राम (तहसील सहजनवां, जनपद गोरखपुर, . प्र. ) में जन्में डॉ. दुबे ने गोरखपुर वि. वि. से स्नाकोत्तर , एम. एड तथा नेट परीक्षा उत्तीर्ण की और शोध उपाधि प्राप्त की भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान शिमला के रिसर्च एसोसिएट के रूप में कार्य किया भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद द्वारा प्रदत्त पोस्ट डॉक्ट्रेट फेलोशिप का कार्यब भी सफलतापूर्वक सम्पन किया राष्टीय-अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में इनके दो दर्जन से अधिक शोधपत्र प्रकाशित हो चुके हैं डॉ. दुबे काव्य-रचना और प्रभवजनक वक्तृत्व के लिए भी जाने जाते हैं   

Rating & Reviews

0
5
0
4
0
3
0
2
0
1
0

0 Ratings, 0 Reviews

Have you used this product?
Rate it now.

WRITE A REVIEW
Please Note: Seller assumes all responsibility for the products listed and sold . If you want to report an intellectual property right violation of this product, please click here.
Some text some message..