Scroll To Top
  Items Left!

(Bharat Ka Samvidhan Ek Parichay)

(Bharat Ka Samvidhan  Ek Parichay) Buy (Bharat Ka Samvidhan Ek Parichay) online at a discounted price from ShopClues.com. Shop Books, Home & Kitchen products @ Lowest Prices. Shop now! Enjoy Free Shipping & COD across India. EMI options available with Easy Return/Replacement Polices. Product Id : 146809431
Rs.325 Rs.395 18% off
Extra CluesBucks+only on VIP Club. Join Now
  • Binding : Paper Back
  • Language : Hindi
2 offers Available for you
  • B2G75

    Buy any 2 product and get flat Rs 75 off on all Orders

    Use code "B2G75" Min. Cart Value ₹329 | Max. Discount ₹75 T&C
item is available on 201301 Change
  • COD Available
  • Shipping: Rs. 0
  • Delivered 7-9 Business Days
  • Easy Returns and Replacement

    You can place a return request within 10 days of order delivery.

    In case of damaged/missing product or empty parcel, the return request should be filed within 2 days of delivery.

    Know More
  • Payment Options: (Credit Card , Debit Card , Net Banking , Wallets , COD)
Sold by :

PHI Learning

Delhi , Delhi

3.9 (6) Reviews
Visit Seller Store
Product Details:

(Bharat Ka Samvidhan Ek Parichay)

इस पुस्तक की लोकप्रियता यथावत शिखर पर है | गत वर्ष के सभी महत्त्वपूर्ण निर्णयों का इस संस्करण में यथेचित समावेश कर लिया गया है | विधि के विद्यार्थियों और न्यायिक तथा सिविल सेवा की परीक्षाओं में भाग लेने वाले अभ्यार्थी इसे अतीव उपयोगी मानते हैं | उनकी सफलता का यह उपयुक्त साधन है | वस्तुपरक और वर्णनात्मक, दोनों प्रकार की परीक्षाओं के लिए यह पुस्तक उपयोगी है | <p><b>तेरहवें संस्करण की विशेषताएं</b> <p>१. ऐकांतता का अधिकार (९ न्यायाधीशों की पीठ का निर्णय ) <p>२. आपातकाल के कुप्रसिद्ध निर्णय, ए.डी.एम. जबलपुर का उलटा जाना | <p>३. वैयक्तिक स्वतंत्रता राज्य द्वारा प्रदत्त अधिकार नहीं है | यह नैसर्गिक अधिकार है | <p>४. स्वेच्छाचारिता के आधार पर विधान को भी अविधिमान्य किया जा सकता है | <p>५. तलाक-ए-बिद्दत (तीन तलाक) अवैध है | अनु. १४ का उल्लंघन है | <p>६. उच्च न्यायालय के कार्यरत न्यायाधीश को अवमान के लिए दंडित किया जा सकता है | <p>७. अनु. ३०१ द्वारा प्रदत्त स्वतंत्रता आत्यंतिक नहीं है | अविभेदकारी कर (प्रवेश कर) लगाया जा सकता है | <p>८. अनु. ३४८(३) अधिनियम का प्राधिकृत अंग्रेजी पाठ, हिंदी के मूल पाठ से उच्चतर नहीं हो सकता | <p>९. जम्मू-कश्मीर के संविधान की प्रास्थिति भारत के संविधान के बराबर नहीं है | भारत का संविधान सर्वोपरि है |

Books Specification

Binding :   Paper Back
Language :   Hindi

More Details

Maximum Retail Price (inclusive of all taxes) :   Rs.395

Rating & Reviews

0
5
0
4
0
3
0
2
0
1
0

0 Ratings, 0 Reviews

Please Note: Seller assumes all responsibility for the products listed and sold . If you want to report an intellectual property right violation of this product, please click here.
Some text some message..